Hindi Essays, English Essays, Hindi Articles, Hindi Jokes, Hindi News, Hindi Nibandh, Hindi Letter Writing, Hindi Quotes, Hindi Biographies

Hindi Essay on "Manushya wahi hai, Jo Manushya ke liye Mare", "मनुष्य वही है, जो मनुष्य के लिए मरे " for Students

मनुष्य वही है, जो मनुष्य के लिए मरे  
Manushya wahi hai, Jo Manushya ke liye Mare

मानव-हित के लिए जीने-मरने वाला मानव सच्चा मानव। मानव इसलिए मानव क्योंकि उसमें मानवता है, करुणा है, दया ७, दूसरों के सुख-दुख में सम्मिलित होने का गुण है। केवल अपने सुख-साधन में सीमित मनुष्य पश समान है।

महापुरुषों के उदाहरण-महान वही, जिसने औरों के लिए जीना-मरना सीखा। गाँधी, सुभाष, नेहरू, बुद्ध, विवेकानंद स्वयं के लिए नहीं, औरों के लिए जिए। ईसामसीह, पीर-पैगंबर सभी करुणा से युक्त थे। महान बनने के लिए स्वार्थ-त्याग की आवश्यकता।




Post a Comment

0 Comments