Hindi Essays, English Essays, Hindi Articles, Hindi Jokes, Hindi News, Hindi Nibandh, Hindi Letter Writing, Hindi Quotes, Hindi Biographies

Hindi Essay on "Mahan Chije Ek Din mein Nahi Banti", "महान् चीजें एक दिन में नहीं बनती " for Students Complete Hindi Speech, Paragraph for class 5, 6, 7, 8, 9, and 10.

महान् चीजें एक दिन में नहीं बनती 
Mahan Chije Ek Din mein Nahi Banti

इस कहावत का अर्थ यह है कि बड़ी तथा महान् चीजें थोड़े समय में प्राप्त नहीं की जा सकती। व्यक्ति की मेहनत तथा लगन का बहुत मूल्य होता है। सफलता के लिए कोई भी शाही रास्ता मौजूद नहीं होता। जो लोग शार्ट-कट को अपनाते हैं उन्हें अन्त में दुःख तथा हार का सामना करना पड़ता है। उन्हें यह ज्ञान होना चाहिए कि जीवन में कोई जादू की छड़ी नहीं होती। रोम दुनिया का एक बहुत खूबसूरत शहर है। शुरूआत में वह एक छोटा-सा गाँव था। वहाँ रहने वाले लोगों ने कड़ी मेहनत कर के उसे एक खूबसूरत शहर में तबदील किया। आज इसकी खूबसूरती कुछ दिनों की मेहनत नहीं, न ही किसी चमत्कार से है बल्कि यह तो वहां रहने वाले लोगों की कड़ी मेहनत का नतीजा है। दुनिया के बड़े-बड़े देश कड़ी मेहनत तथा प्रयासों से ही महान् बने हैं। केवल कुछ किताबें पढ़ने से व्यक्ति बुद्धिमान नहीं बनता। हमें कभी भी हौसला नहीं खोना चाहिए यदि हमारे प्रयास कभी विफल हो जाएं। लगातार परिश्रम किए बिना सफलता की ऊँचाइयों को नहीं छुआ जा सकता। इसलिए व्यक्ति को अपने लक्ष्य के प्रति सहनशील तथा परिश्रमी होना चाहिए।



Post a Comment

0 Comments