Hindi Essays, English Essays, Hindi Articles, Hindi Jokes, Hindi News, Hindi Nibandh, Hindi Letter Writing, Hindi Quotes, Hindi Biographies

Hindi Essay, Paragraph 5 Lines Vichar Bindu on "Daya Dharam ka Mool Hai", "दया धर्म का मूल है " for Class 8, 9, 10, 12 Students.

दया धर्म का मूल है 
Daya Dharam ka Mool Hai



विचार-बिन्दु- 

1 तुलसी का दोहा-दया धर्म का मूल है, पाप मूल अभिमान 

2 संसार के हर धर्म में दया और करुणा पर बल 

3 परोपकार की भावना ही सबसे बड़ी मनुष्यता 

4 कुछ दयालु महापुरुषों के उदाहरण 

5 उपसंहार (सामाजिक कर्तव्यों में दया का सर्वोत्तम स्थान)। 

Post a Comment

0 Comments