Hindi Essays, English Essays, Hindi Articles, Hindi Jokes, Hindi News, Hindi Nibandh, Hindi Letter Writing, Hindi Quotes, Hindi Biographies

Hindi Essay on "Adhjal Jal Gagari Chalakat Jaye", " अधजल गगरी छलकत जाय " for Students, Complete Hindi Essay, Paragraph, Speech for class 5, 6, 7, 8, 9, 10, 12 Exam.

 अधजल गगरी छलकत जाय 

Adhjal Jal Gagari Chalakat Jaye

आधा-अधूरा ज्ञान घमंड और गर्व को बढ़ाता है-थोथा चना बाजे घना-ढोलक भी भीतर से खाली होने पर बजती है अतः ऊँची आवाज़ खाली होने की निशानी-जो गरजते हैं, वे बरसते नहीं। कम पढ़े-लिखे अपने शिक्षित होने का गर्व प्रकट करते हैं-अधो ज्ञान में हीनता का भाव, अज्ञानी होने का भाव इससे वह अपने-आपको ऊँचा दिखाने की चेष्टा करता है-पूरा ज्ञानी सत्य से परिचित होता है-इसलिए वह उछलता नहीं, संतुलित रहता है।





Post a Comment

0 Comments