Hindi Essays, English Essays, Hindi Articles, Hindi Jokes, Hindi News, Hindi Nibandh, Hindi Letter Writing, Hindi Quotes, Hindi Biographies

Hindi Essay on "Mera Priya Mitra", "मेरा प्रिय मित्र " for Students Complete Hindi Speech, Paragraph for class 5, 6, 7, 8, 9, and 10 students in Hindi Language

मेरा प्रिय मित्र 
Mera Priya Mitra


जितेंद्र मेरा सबसे अच्छा दोस्त है। बचपन से ही हम दोनों एक ही कक्षा में पढ़ते आए हैं। वह एक आदर्श विद्यार्थी है। वह कक्षा में सबसे आगे है। वह सबके साथ उदार और शिष्टाचार का भाव रखता है। वह किसी के साथ झगड़ा नहीं करता है। जब हम स्कूल में पढ़ते थे शाम को मैं अपने घर जाता था, तो हम एक साथ पढ़ते हैं और खेलते हैं। उसकी मां मुझे बहुत प्यार करती है।


जितेन्द्र भी अक्सर मेरे घर आता है। जितेन्द्र के कोई भाई और बहन नहीं हैं। तो वह मेरे छोटे भाइयों को पसंद करता है। हर रविवार को दोपहर में, हम नदियों के किनारे घूमने जाते हैं। जितेंद्र को चित्रकला करने का शौक है। वह बहुत ही सुंदर चित्र बनाता है। एक सच्चा दोस्त हमेशा आपके साथ खड़ा रहता है जैसे कि हर मुश्किल में जितेंद्र मेरे साथ रहता है। हर किसी के पास दोस्त तो कई सारे होते हैं परंतु प्रिय मित्र एक ही होता है। मुझे उससे बहुत प्यार है। हम लोगों का घर भी पास-पास है इसलिए हम बचपन से ही एक दूसरे के अच्छे मित्र हैं। हम दोनों दोस्त अपने प्रारंभिक शिक्षा से ही एक साथ जुड़े हुए हैं।


एक बार मुझे तेज बुख़ार हो रहा था तो जितेंद्र मेरा तबीयत देख कर रोने लगा और वह भी 2 दिन तक स्कूल नहीं गया। हम दोनों दोस्त को एक दूसरे की बहुत चिंता रहती है। यही हम दोनों के मित्रता को और मजबूत बनाता है। अब हम दोनों दोस्त एक ही कॉलेज में पढ़ाई करते हैं। 11वीं में हम दोनों मित्रों ने अलग-अलग विषय चुना जिसके कारण हम दोनों अलग-अलग कक्षा में शिक्षा लेते हैं परंतु कॉलेज का समय खत्म होने के बाद हम साथ-साथ ही घर को लौटते हैं।


जितेंद्र बहुत ही मजाकिया दोस्त है। मुझे कविताएं लिखने का शौक है और जितेंद्र मेरी कविताओं को बहुत ही ध्यान से सुनता है और उसे मेरी कविताएं बहुत पसंद है। उसी प्रकार मुझे भी जितेंद्र के बनाए हुए चित्र बहुत पसंद है। कुछ तो मैंने अपने घर के कमरे की दीवार पर भी लगाएं हैं। जितेंद्र ने कई चित्रकला प्रतियोगिता में पुरस्कार जीता है।


मेरे प्रिय मित्र जितेंद्र की बातें सच में मुझे बहुत ही प्रेरित करती हैं। वह कहता है कि आगे बढ़कर उसे लोगों के लिए कुछ अच्छा काम करना है। अपने प्रारंभिक शिक्षा के समय में मैं पढ़ाई में उतना अच्छा नहीं था परंतु जितेंद्र के साथ रहकर मेरी शिक्षा में बहुत सुधार आया और साथ ही मैंने अपने मेट्रिक की परीक्षा प्रथम श्रेणी से पास किया। आज भी वह मेरे कैरियर के निर्माण में मेरे लिए एक प्रेरणा है।


वह अपने सपने को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत करता है और चाहता है कि मैं भी ऐसा ही करूँ। उनका सहयोग निश्चित रूप से मुझे अपना लक्ष्य प्राप्त करने में मदद करेगा। मेरा और उसका परिवार छुट्टियों में पिकनिक जाते हैं। मुझे पूर्ण विश्वास है कि हमारी मित्रता जीवन भर ऐसे ही बनी रहेगी क्योंकि हम दोनों दोस्त एक दूसरे के विचारों की सराहना करते हैं। हमारी दोस्ती कभी खत्म नहीं होगी। यह सदाबहार है। यह तब तक चलेगा जब तक कि सूर्य-चंद्रमा इस ब्रह्मांड पर हैं।



Post a Comment

0 Comments