Hindi Essays, English Essays, Hindi Articles, Hindi Jokes, Hindi News, Hindi Nibandh, Hindi Letter Writing, Hindi Quotes, Hindi Biographies

Hindi Essay on "Soil Pollution", "भूमि प्रदूषण " for Students Complete Hindi Speech, Paragraph for class 5, 6, 7, 8, 9, and 10 students in Hindi Language

भूमि प्रदूषण 
Soil Pollution


हम लोग जहाँ रहते हैं, वहाँ कई प्रकार के प्रदूषण फैलते हैं, जैसे-जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण और भूमि प्रदूषण । मनुष्य की आधुनिक गतिविधियाँ इन प्रदूषणों के मुख्य कारण हैं । भूमि प्रदूषण के लिए भी मनुष्य ही जिम्मेदार है । हम लोग अपने घर का कचरा आस-पड़ोस में फेंक देते हैं । हमारे चारों ओर काँच, लोहा, प्लास्टिक तथा अन्य प्रकार के कचरे बिखरे रहते हैं । इनसे न केवल गंदगी फैलती है बल्कि इस प्रकार की भूमि उपयोग के लायक नहीं रह जाती है । महानगरों तथा शहरों में घरेलू तथा उद्योग-धंधों का कचरा शहर या नगर से बाहर किसी खुले स्थान में फेंक दिया जाता है । आँधी चलने पर यह कचरा फिर से हमारे घर के आस-पास आ जाता है । वर्षा होने पर कचरा सड़कर कई प्रकार की बीमारियाँ फैलाता है । पूरे विश्व में इतना कूड़ा-करकट फेंका जाता है कि प्रत्येक वर्ष यदि इनका ढेर लगाया जाए तो इसकी ऊँचाई विश्व की सबसे ऊंची पर्वत चोटी माउंट एवरेस्ट से भी अधिक होगी । इस कूड़े का एक-तिहाई भाग औद्योगिक क्षेत्रों द्वारा उत्पन्न होता है । जीव-जंतुओं का मल-मूत्र भी कुल कचरे का एक बड़ा भाग होता है । यदि कूड़े को खुला छोड़ दिया जाता है तो वह सड़ने लगता है । आस-पास के क्षेत्रों में दुर्गंध एवं बीमारी फैलती है । बहुत से स्थानों पर कूड़े को सुखाकर जला दिया जाता है । कूड़े को जलाने से उत्पन्न धुआँ वायु को प्रदूषित कर देता है । कूड़े-कचरे को निबटाने | की एक अच्छी विधि है खुले मैदान में एक बहुत बड़ा तथा गहरा गड्ढा | खोदकर कडे को उसमें भर दिया जाए । फिर इसे समतल कर मिट्टी सेदबा दिया जाता है । इस भूमि के ऊपर भवन, पार्क आदि का निर्माण किया जाता है । इस विधि से न तो कूड़ा सड़ता है और न ही उस पर मक्खी, मच्छर और कीटाणु पनपते हैं । घरेलू कचरे को कंपोस्ट पिट में डालकर इसे खाद के रूप में भी बदला जा सकता है । हमें भूमि प्रदूषण को रोकने के लिए सभी आधुनिक वैज्ञानिक विधियों का प्रयोग करना चाहिए । कृषि योग्य भूमि में कीटनाशक दवाओं का कम से कम छिड़काव करना चाहिए ।



Post a Comment

0 Comments