Hindi Essays, English Essays, Hindi Articles, Hindi Jokes, Hindi News, Hindi Nibandh, Hindi Letter Writing, Hindi Quotes, Hindi Biographies

Hindi Essay, Story on "Murkho ko Updesh dena Vyarth hai", "मूर्खों को उपदेश देना व्यर्थ है " for Students Complete Hindi Speech, Paragraph.

मूर्खों को उपदेश देना व्यर्थ है 
Murkho ko Updesh dena Vyarth hai


जंगल में बरगद का एक वृक्ष था । उस पर चिड़ियों के एक जोड़े ने घोंसला बनाया । वर्षा ऋतु बीत चुकी थी। शीत ऋतु आरंभ हो चुकी थी। अचानक एक दिन तेज वर्षा होने लगी । उस शीत से काँपता हुए एक बंदर उस पेड़ के नीचे आया।


बंदर को ठंड से काँपते हुए देखकर चिडिया बोली. "भाई, तुम्हारे हाथ-पैर भी हैं और तुम दिखते भी मनुष्य के समान हो, फिर अपना घर क्यों नहीं बना लेते ?" चिड़िया के वचनों को सुनकर बंदर को क्रोध आ गया और उसने चिड़िया से चुप रहने के लिए कहा । चिड़िया चुप हो गई परंतु बंदर का क्रोध शांत नहीं हुआ। वह पेड पर चढ़ गया और उसने चिडिया का घोसला तोड़ डाला।




Post a Comment

0 Comments